गर्भधारण पूर्व और प्रसव पूर्व निदान तकनीक,

(लिंग चयन प्रतिषेध) अधिनियम ,1994

गर्भधारण पूर्व या प्रसव पूर्व लिंग चयन या लिंग का पता लगाना दण्डनीय अपराध है ।
  • विभाग के बारे में

पीसी एवं पीएनडीटी में आपका स्वागत है

गर्भधारण पूर्व और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (लिंग चयन प्रतिषेध) अधिनियम ,1994 भ्रूण हत्या और भारत में गिरते लिंग अनुपात को खत्म करने के लिए भारत की संसद द्वारा पारित अधिनियम है। अधिनियम में पूर्व लिंग निर्धारण करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अधिनियम का मुख्य उद्देश्य गर्भाधान के पहले या बाद लिंग चयन तकनीक के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने और सेक्स चयनात्मक गर्भपात के लिए प्रसव पूर्व निदान तकनीक के दुरुपयोग को रोकने के लिए है।